21. व्रत करना गीता अनुसार कैसा है

व्रत करना गीता अनुसार कैसा है

श्रीमद्भगवत् गीता अध्याय 6 श्लोक 16 में मना किया है कि हे अर्जुन! यह योग (भक्ति) न तो अधिक खाने वाले का और न ही बिल्कुल न खाने वाले का अर्थात् यह भक्ति न ही व्रत रखने वाले, न अधिक सोने वाले की तथा न अधिक जागने वाले की सफल होती है। इस श्लोक में व्रत रखना पूर्ण रुप से मना है।

Gita | गीता - the-knowledge-of-gita-is-nectar

Gita Chapters | गीता अध्याय

Featured Books

Sat Bhakti Sandesh